डिमांड ड्राफ्ट नम्बर क्या होता है? | What is the Demand Draft Number?

Demand Draft Number : – डिमांड ड्राफ्ट बैंक द्वारा जारी किया जाने वाला एक पेमेंट इंस्ट्रूमेंट है जिसे डीडी के नाम से भी जाना जाता है। डिमांड ड्राफ्ट एक नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट है जिसे बैंक द्वारा कस्टमर को जारी किया जाता है जिसमें कस्टमर की स्वीकृति होती है की डिमांड ड्राफ्ट में अंकित की गई राशि डिमांड ड्राफ्ट की मूल प्रति पेश करने वाले व्यक्ति को भुगतान की जाए। (Click Here to Read in English)

डिमांड ड्राफ्ट को भुगतान का एक सुरक्षित माध्यम माना जाता है क्योंकि ड्राफ्ट की नकल अथवा फोर्ज कॉपी बनाना काफी कठिन काम है। क्योंकि कस्टमर द्वारा डिमांड ड्राफ्ट की राशि का भुगतान पहले ही कर दिया जाता है।

आज भी चेक की तुलना में डिमांड ड्राफ्ट को ज्यादा विश्वसनीय माना जाता है क्योंकि डिमांड ड्राफ्ट में एकअपर्याप्त बैलेंस की वजह से डिशऑनर होने की कोई संभावना नहीं होती है। किसी भी प्रकार की धोखाधड़ी से बचने के लिए डिमांड ड्राफ्ट भुगतान का एक अच्छा माध्यम हो सकता है। यह व्यापार के दौरान भुगतान का उस स्थिति में और भी अच्छा तरीका हो सकता है जब Drawer तथा Payee एक दूसरे को नहीं जानते हो।

क्या आप डिमांड ड्राफ्ट नंबर (Demand Draft Number) के बारे में जानते हैं? क्या आप जानते हैं कि डिमांड ड्राफ्ट पर डिमांड ड्राफ्ट नंबर कहां अंकित होता है? अगर नहीं जानते तो कोई बात नहीं है। इस पोस्ट के माध्यम से Demand Draft Number के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी प्रदान की जाएगी अतः इस पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें।

डिमांड ड्राफ्ट नंबर क्या होता है?|What is Demand Draft Number?

डिमांड ड्राफ्ट नंबर डिमांड ड्राफ्ट को दी गई एक विशेष प्रकार की पहचान संख्या होती है। डिमांड ड्राफ्ट संख्या 6 अंकों का एक न्यूमेरिकल कोड होता है। जो डिमांड ड्राफ्ट के निचले हिस्से में अंकित होता है। डिमांड ड्राफ्ट नंबर मैग्नेटिक इंक कैरक्टर रिकॉग्निशन (magnetic ink character recognition- MICR Code) कोर्ट से तुरंत पहले अंकित होता है।

Demand Draft Number एक प्रकार से चेक नंबर की तरह ही यूनिक नंबर होता है, जो भुगतान प्रक्रिया पूरी करने में मदद करता है।

Demand Draft Number को जानने की आवश्यकता क्यों है?

डिमांड ड्राफ्ट नंबर उस स्थिति में Drawer अथवा Payee की मदद करता है जब डिमांड ड्राफ्ट चोरी अथवा गुम हो गया हो। अगर पाई द्वारा डिमांड ड्राफ्ट का भुगतान कर लिया गया हूं तो ट्रांजेक्शन से  संबंधित रिकार्ड बनाए रखने में यह मदद करता है। प्रत्येक बैंक द्वारा डिमांड ड्राफ्ट को अन्य बैंको द्वारा जारी किए जाने वाले डिमांड ड्राफ्टो को ध्यान में रखते हुए यूनिक नंबर प्रदान किया जाता है।प्रमुख भारतीय बैंको में डिमांड ड्राफ्ट पर लगने वाले चार्जेज के बारे जानने के लिए मेरा पोस्ट Demand Draft Charges पढ सकते है।

एक डिमांड ड्राफ्ट में कौन-कौन से विशेष नंबर दिए होते हैं?

डिमांड ड्राफ्ट में Demand Draft Number के साथ साथ जारी करने वाले बैंक का आईएफएससी कोड तथा मैग्नेटिक इंक करेक्टर रिकॉग्नाइज कोड (MICR Code) भी लिखा हुआ होता है। जब किसी देती द्वारा एक बैंक से दूसरे बैंक में पैसा ट्रांसफर किया जाता है तो आई एफ एस सी कोड की आवश्यकता होती है। 

डिमांड ड्राफ्ट के स्टेटस को ट्रैक कैसे करें? |How to track Demand Draft Number?

वर्तमान में किसी भी बैंक द्वारा जारी किए गए दिन डिमांड ड्राफ्ट की वैलिडिटी 3 महीने तक की होती है। अर्थात डिमांड ड्राफ्ट जारी करने की तिथि से 3 महीने के अंदर अंदर आप डिमांड ड्राफ्ट राशि का भुगतान प्राप्त कर सकते हैं। अगर आप डिमांड ड्राफ्ट का स्टेटस जानना चाहते हैं तो अपने बैंक की ब्रांच जाए और ग्राहक प्रतिनिधि से डिमांड ड्राफ्ट के स्टेटस के बारे में जानकारी प्राप्त करें। डिमांड ड्राफ्ट स्टेटस की जानकारी ऑनलाइन नेट बेंकिंग की माध्यम से भी प्राप्त कर सकते हैं। सर्वप्रथम अपने बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। लॉगिन विकल्प का उपयोग करते हुए लॉगइन क्रेडेंशियल का उपयोग कर अपने बैंक अकाउंट में लॉगिन करें। बैंक अकाउंट स्टेटमेंट को खोलें। हाल ही में आपकी अकाउंट मैं होने वाली समस्त लेन देन की सूचना स्क्रीन पर खुल जाएगी। 

Demand Draft Number Related FAQ

Q-1. डिमांड ड्राफ्ट में Demand Draft Number कहां पर अंकित होता है?

डिमांड ड्राफ्ट नंबर किसी भी डिमांड ड्राफ्ट के निचले हिस्से में एम आई सी आर कोड से तुरंत पहले लिखा होता है। यह 6 अंकों का यूनिक नंबर होता है।

Q-2. डिमांड ड्राफ्ट बनवाते समय क्या अकाउंट नंबर की आवश्कता होती है?

हां, डिमांड ड्राफ्ट पर अकाउंट नंबर के साथ साथ पेमेंट मॉड, बेनिफिशियरी नेम, चेक नंबर, हस्ताक्षर तथा ड्राफ्ट एनकैश किए जाने वाले स्थान का विवरण दिया हुआ होता है।

Q-3. क्या ऑनलाइन डिमांड ड्राफ्ट बनवाया जा सकता है?

हां, डिमांड ड्राफ्ट ऑनलाइन माध्यम से भी बनवाए जा सकता है। कुछ बैंक ग्राहकों को इस प्रकार की सुविधा उपलब्ध कराते हैं जैसे एचडीएफसी बैंक।

Q-4. डिमांड ड्राफ्ट पर Demand Draft Numberक्या होता है?

डिमांड ड्राफ्ट पर बिल्कुल निचले हिस्से में एमआईसीआर कोड से तुरंत पहले दी गई 6 अंकों की विशेष संख्या होती है। जो भुगतान तथा भुगतान से संबंधित रिकॉर्ड रखने में मदद करती है।

Q-5. एक डिमांड ड्राफ्ट कितने दिन तक वैध रहता है?

डिमांड ड्राफ्ट जारी करने की तिथि से 3 महीने तक वैध रहता है। यह एक प्रकार से बैंकर्स चेक की तरह 3 महीने तक वैध रहता है।

Read Also : – How To Convert Credit Card Payment To EMI In HDFC Bank?

2 COMMENTS

  1. […] Demand Draft Number: – Demand Draft is a payment instrument also known as DD issued by the bank. A demand draft is a negotiable instrument issued by a bank to a customer. The customer’s approval is mentioned in the demand draft to pay the amount mentioned in the demand draft to the person presenting the original copy of the demand draft. (हिन्दी में पढने के लिए यहांँ क्लिक करे।) […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here