मोबाइल बैंकिंग सेवा क्या होती है? |What is Mobile Banking?

Mobile Banking – जैसे-जैसे इंटरनेट का प्रयोग दुनिया भर में बढ़ा है वैसे वैसे भारत में भी बैंकिंग क्षेत्र में बड़ा बदलाव आया है। पहले लोग बैंक ट्रांजैक्शंस ऑनलाइन माध्यम से नहीं करते थे। लोग बंकी से संबंधित किसी प्रकार की सर्विस का लाभ प्राप्त करने के लिए संबंधित बैंक शाखा में विजिट करते थे। लेकिन जैसे-जैसे इंटरनेट सेवाएं सस्ती हुई है, तो उपभोक्ताओं ने नेट बैंकिंग के माध्यम से ट्रांजैक्शन करना शुरू कर दिया है। करीब एक दशक पहले लोगों को बैंकिंग सेवाओं का लाभ प्राप्त करने के लिए बैंक ब्रांच जाना होता था और लंबी लंबी कतारों में घंटों खड़े रहकर अपनी बारी का इंतजार करना होता था। 

मैंने अपनी आंखों से देखा है कि जब हमें किसी प्रतियोगी परीक्षा का फॉर्म भरने के लिए डिमांड ड्राफ्ट की आवश्यकता होती थी, तो हमें बैंक से डिमांड ड्राफ्ट बनवाने के लिए घंटों लंबी-लंबी कतारों में खड़ा होना पढ़ता था। 

आलम यह था कि लोगों को अपने बकाया बैलेंस को जानने, नकदी निकालने, पैसे ट्रांसफर करने के लिए भी घंटों लाइन में खड़ा होना पड़ता था। वर्तमान में आप सभी बैंकिंग सुविधाओं का प्राप्त करने के लिए इंटरनेट बैंकिंग अथवा Mobile Banking के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं। 

Mobile Banking सेवाएं क्या होती हैं?

जब हम इंटरनेट का उपयोग करते हुए मोबाइल के माध्यम से बैंकिंग सेवाओं का लाभ प्राप्त करते हैं तो इस प्रोसेस को Mobile Banking के नाम से जाना जाता है। मोबाइल बैंकिंग का उपयोग आप बैंक की एप्लीकेशन को अपने मोबाइल में डाउनलोड करके भी प्राप्त कर सकते हैं। 

Mobile Banking ने लोगों के जीवन को सरल बनाते हुए मोबाइल उपयोग के माध्यम से पैसा भेजने, धन प्राप्त करने, अकाउंट बैंलेंस जानने, बिलों का भुगतान करने आदि सेवाओं को सुलभ बना दिया है। देश में लगभग सभी बैंक उपभोक्ताओं को मुफ्त बैंकिंग सेवा प्रदान कर रहे हैं।

Mobile Banking सेवाओं के प्रकार

विभिन्न बैंकों द्वारा अपने ग्राहकों को विभिन्न प्रकार की मोबाइल बैंकिंग सेवाएं प्रदान की जा रही हैं। इन बैंकिंग सुविधाओं में मुख्य तौर पर निम्नलिखित तीन प्रकार की सेवाएं शामिल हैं।

  • वायरलेस एप्लिकेशन प्रोटोकॉल पर आधारित Mobile Banking सेवा
  • SMS पर आधारित मोबाइल बैंकिंग सेवा 
  • अनस्ट्रक्चर्ड सप्लीमेंट्री सर्विस डेटा (USSD) पर आधारित Mobile Banking सेवा

आइए, इन Mobile Banking सेवाओं पर यहां विस्तार से चर्चा करते हैं।

वायरलेस एप्लिकेशन प्रोटोकॉल पर आधारित मोबाइल बैंकिंग सेवा

वायरलेस एप्लीकेशन प्रोटोकोल एप्लीकेशन के माध्यम से मोबाइल सेवाएं प्राप्त करने का एक माध्यम है।  कोई भी ग्राहक अपने स्मार्टफोन अथवा आईफोन में गूगल प्ले स्टोर अथवा एप स्टोर से मोबाइल एप्लीकेशन को डाउनलोड कर सकते हैं। संबंधित बैंक की मोबाइल एप्लीकेशन को अपने मोबाइल फोन में डाउनलोड कर उपभोक्ता बैंक द्वारा प्रदान की जाने वाली सभी सेवाओं का लाभ Mobile Banking के माध्यम से प्राप्त कर सकता है। इस सेवा का लाभ प्राप्त करने के लिए उपभोक्ताओं को अलग से Mobile Banking सेवा के लिए रजिस्टर करने की आवश्यकता नहीं है। मोबाइल मोबाइल एप्लिकेशन के रूप में Mobile Banking Application का उपयोग करने के लिए संबंधित बैंक से लॉग-इन क्रेडेंशियल प्राप्त करना आवश्यक है। 

वर्तमान में अधिकांश बैंकों ने एंड्राइड अथवा iOS प्लेटफॉर्म के लिए मोबाइल एप्लीकेशन लांच कर रखे हैं। विभिन्न बैंक द्वारा लांच की गई मोबाइल एप्लीकेशन का प्रयोग कर उपभोक्ता बैकिंग सेवाओं का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। 

वर्तमान में कुछ बैंकों ने अलग–अलग बैंकिंग सेवाओं के लिए अलग–अलग मोबाइल ऐप लॉन्च किए हैं। जैसे बैंक अपने ग्राहकों को ई पासबुक की सेवा देने के लिए अलग से मोबाइल एप्लीकेशन लॉन्च कर सकता है। इसी तरह से अकाउंट बैलेंस, फंड ट्रांसफर, बिल भुगतान जैसी अन्य सेवाओं के लिए अलग-अलग मोबाइल एप्लीकेशन लांच कर सकता है।  उपभोक्ता बैंक विशेष की सेवाओं का लाभ प्राप्त करने के लिए उस बैंक द्वारा लांच की गई एक से अधिक मोबाइल एप्लीकेशन को अपने मोबाइल फोन में डाउनलोड कर सेवाओं का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।  

यह भी पढे – एसबीआई बैक स्टेटमेंट मोबाइल पर कैसे प्राप्त करे?

Mobile Banking से प्राप्त की जाने वाली सेवाएं

मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से प्राप्त की जाने वाली कुछ बैंकिंग सेवाएं इस प्रकार हैं।

अकाउंट एक्सेस: ग्राहक अपने अकाउंट से संबंधित बैंक की मोबाइल एप्लीकेशन को अपने स्मार्टफोन में डाउनलोड कर मोबाइल अकाउंट का प्रयोग करते हुए बैंक अकाउंट में लॉगिन कर सकता है। लेकिन ध्यान रहे अकाउंट में लॉग इन करने के लिए यूजर आईडी और पासवर्ड की आवश्यकता होगी। बैंक अकाउंट में एक बार लोगिन करने के बाद किसी भी प्रकार की सेवा का लाभ आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

बैलेंस इन्क्वारी: Mobile Banking के माध्यम से आप अपने अकाउंट के बैलेंस की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। लोगों को अपने अकाउंट का बैलेंस जानने के लिए पहले बैंकों में जाना होता था। बाद में बैंकों ने एटीएम का प्रचलन बढ़ने पर पेटीएम के माध्यम से अकाउंट बैलेंस जानने की सुविधा प्रदान की तो लोगों ने एटीएम की तरफ अपना रुख कर लिया। Mobile Banking सेवा का विस्तार हो जाने के बाद अब आपको बैंक शाखा तथा एटीएम मशीन पर जाने की आवश्यकता नहीं है। आप अपने मोबाइल फोन के माध्यम से ही अपने बैंक का अकाउंट बैलेंस घर बैठे कुछ क्लिक्स में प्राप्त कर सकते हैं।

ई–पासबुक: वर्तमान में कुछ बैंकों के द्वारा ई पासबुक मोबाइल ऐप को लांच किया गया है जिनके माध्यम से उपभोक्ता अपने बैंक अकाउंट क

मैं होने वाली ट्रांजैक्शन अथवा पुरानी ट्रांजैक्शन को डिजिटल पासबुक मोबाइल ऐप के माध्यम से डाउनलोड कर सकता है। 

अकाउंट स्टेटमेंट: किसी भी व्यक्ति को अब अपने बैंक का अकाउंट स्टेटमेंट जानने के लिए किसी भी बैंक शाखा अथवा पेटीएम पर जाने की आवश्यकता नहीं है। अब आप अपने बैंक की मोबाइल एप्लीकेशन अपने फोन में डाउनलोड कर अपने बैंक का बैलेंस या अकाउंट स्टेटमेंट देख सकते हैं और अकाउंट स्टेटमेंट को डाउनलोड भी कर सकते हैं। लेकिन कुछ बैंकों ने एक बार में केवल 90 दिन की बैंक ट्रांजैक्शन स्टेटमेंट को ही डाउनलोड करने की सुविधा दी।

फंड ट्रांसफर: इंटरनेट बैंकिंग अथवा Mobile Banking लोगों की इस जीवन को इतना आसान बना दिया है कि अब वह अपने घर बैठे मोबाइल फोन के माध्यम से ही अपने अथवा अपने किसी रिश्तेदार के अकाउंट में कुछ ही क्लिक्स में फंड ट्रांसफर कर सकते हैं। फंड ट्रांसफर करने के लिए उन्हें अब किसी बैंक शाखा में जाने की आवश्यकता नहीं है।

लगभग सभी बैंकों द्वारा इंट्रा बैंक फंड ट्रांसफर पर किसी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जाता है जबकि इंटरबैंक फंड ट्रांसफर करने के लिए मामूली शुल्क लिया जाता है। Mobile Banking के माध्यम से फंड ट्रांसफर करने में IMPS, NEFT या RTGS मेथड्स का उपयोग किया जा सकता है।

बिल भुगतान: Mobile Banking तथा नेट बैंकिंग ने  मोबाइल, क्रेडिट कार्ड अथवा यूटिलिटी बिलों का भुगतान करना काफी सरल बना दिया है। मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से आप यूटिलिटी बिलों के भुगतान को निश्चित दिन पर शेड्यूल्ड कर सकते हैं। एक बार बिल भुगतान को शेड्यूल्ड करने पर निश्चित तिथि को ऑटोमेटिक आपके बैंक अकाउंट से यूटिलिटी बिल का भुगतान हो जाएगा। बिलों के भुगतान की सारी समस्या Mobile Banking से दूर हो गई है। अब आपको अपने फोन बिल, क्रेडिट कार्ड बिल आदि का भुगतान करने के लिए बैंक शाखा अथवा एटीएम पर लंबी कतारों में खड़े होने की आवश्यकता नहीं है।

ब्रांच लोकेटर: अगर आप किसी अनजान शहर में हैं और आपको अपने बैंक की शाखा में जाना है तो आप उस बैंक की मोबाइल एप्लीकेशन को अपने फोन में डाउनलोड कर नजदीकी बैंक ब्रांच को ढूंढ सकते हैं। मोबाइल एप्लीकेशन में बैंक द्वारा ब्रांच लोकेटर की सुविधा उपलब्ध कराई जाती है। कुछ बैंक ब्रांच शाखा को गूगल मैप के माध्यम से सर्च करने की भी सुविधा प्रदान करते हैं। इस सुविधा का लाभ प्राप्त कर आप गूगल मैप की सहायता से संबंधित शाखा पर आसानी से पहुंच सकते हैं।

ATM लोकेटर: अगर आप किसी नए शहर में हैं और एटीएम के माध्यम से पैसे निकालना चाहते हैं तो आप अपने बैंक की मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से अपने नजदीकी बैंक एटीएम की तलाश कर सकते हैं। एटीएम को खोजने के लिए अपने मोबाइल फोन में अपने बैंक का एप्लीकेशन खोलें और उसमें नेविगेशन की मदद से “ATM लोकेटर” पर जाएं। आप से स्थान पर है उसका एड्रेस दर्ज करें और सर्च करें। आपके इलाके में आपके बैंक से संबंधित एटीएम की सूची स्क्रीन पर खुल जाएगी। 

रिक्वेस्ट: इंटरनेट अथवा Mobile Banking से पहले चेक बुक, नया डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, डुप्लीकेट डेबिट कार्ड आदि का अनुरोध करने के लिए बैंक शाखा में जाने की आवश्यकता होती थी लेकिन अब आप इन सब सेवाओं का लाभ मोबाइल ऐप का उपयोग करके प्राप्त कर सकते हैं। अधिकांश बैंक डेबिट अथवा क्रेडिट कार्ड चोरी अथवा नुकसान के संबंध में ब्लॉक करने की सेवा भी देते हैं। Mobile Banking के माध्यम से रिक्वेस्ट कर आप चेक बुक, नया डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, डुप्लीकेट डेबिट कार्ड आदि के लिए ऑनलाइन रिक्वेस्ट कर सकते हैं और रिक्वेस्ट का स्टेटस चेक कर सकते हैं।

यह भी अवश्य पढे – एसबीआई बैक खाते में मिस्टकॉल से बैलेंस कैसे पता करे?

SMS आधारित Mobile Banking सेवा

अधिकांश बैंकों द्वारा अपने ग्राहकों को एसएमएस पर आधारित Mobile Banking सेवा भी प्रदान की जा रही है। मोबाइल बैंकिंग के इस प्रकार में ग्राहक को किसी भी प्रकार के रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता नहीं है। अर्थात लॉगिन किए बिना ही ग्राहक बैंकिंग सेवाओं का लाभ प्राप्त कर सकता है। इस सेवा को SMS बैंकिंग सेवा के रूप में भी जाना जाता है। लेकिन यह सेवा प्राप्त करने के लिए आपका मोबाइल नंबर बैंक अकाउंट से लिंक होना आवश्यक है। अर्थात रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर के माध्यम से ही आप एसएमएस Mobile Banking सेवा का लाभ उठा सकते हैं।  इस सेवा के माध्यम से ग्राहक अकाउंट बैलेंस की राशि जानने मिनी स्टेटमेंट जानने तथा अन्य प्रकार की सेवाओं का लाभ प्राप्त करने के लिए रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से बैंक द्वारा उपलब्ध कराए गए मोबाइल नंबर पर टेक्स्ट एस एम एस भेजा जाता है। जिसके जवाब में बैंक द्वारा संबंधित सूचना रजिस्टर्ड मोबाइल पर एसएमएस के माध्यम से प्राप्त होती है। 

SMS बैंकिंग सेवाओं का लाभ उठाने के लिए ग्राहकों के पास स्मार्टफोन या इंटरनेट कनेक्शन होना भी आवश्यक नहीं है। बैक द्वारा अलग-अलग जानकारियों के लिए अलग-अलग एसएमएस प्रारूप तैयार किए हुए हैं। रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से संबंधित सेवा के पहले से तय SMS प्रारूप को SMS सेवा नंबर पर भेज दे।

जैसे अगर आपको अपने अकाउंट का बैलेंस की जानकारी प्राप्त करनी है तो आप अपने रजिस्टर्ड मोबाइल फोन के मैसेज बॉक्स में AVAIL BAL XXXX टाइप करें, जहाँ XXXX अकाउंट नंबर के अंतिम 4 अंक होंगे। इस टेक्स्ट मैसेज को संबंधित बैंक की एसएमएस सेवा नंबर पर भेज दें। संबंधित बैंक द्वारा एसएमएस प्राप्त होते ही आपके अकाउंट में उपलब्ध वर्तमान बैलेंस की सूचना एसएमएस के माध्यम से आपको प्राप्त हो जाएगी।

विशेष ध्यान देने योग्य बात यह है कि एसएमएस भेजने के लिए उसी फोन का उपयोग करें जो आपके बैंक अकाउंट के साथ रजिस्टर्ड है। 

यह भी अवश्य पढे – डिमांड ड्राफ्ट व चैक में क्या अन्तर होता है?

USSD पर आधारित Mobile Banking सेवा

आमतौर पर विभिन्न बैंकों द्वारा यूएसएसडी पर आधारित Mobile Banking सेवा का लाभ केवल उन लोगों को प्रदान किया जाता है जिनके पास स्मार्टफोन अथवा इंटरनेट की पहुंच नहीं है। ऐसे लोग बैंकिंग सेवाओं का लाभ प्राप्त करने के लिए बैंक द्वारा उपलब्ध कराए गए USSD कोड का ही उपयोग कर सकते हैं। इस सेवा के अंतर्गत ग्राहक एक विशेष प्रकार का कोड अपने मोबाइल फोन में डायल करते हैं और उसे संबंधित बैंक को भेजते हैं। बैंक द्वारा उन्हें SMS के माध्यम से एक मेन्यू भेजा जाता है। इस मेंन्यू में बैंकिंग सेवाएं दी गई होती हैं जैसे बैलेंस इंन्क्वारी, मिनी अकाउंट स्टेटमेंट, इत्यादि। जिस सेवा का आप लाभ प्राप्त करना चाहते हैं वह सेवा जिस नंबर पर आती है उस नंबर को डायल करें। उस सेवा से संबंधित जानकारी आपके मोबाइल पर एसएमएस के माध्यम से प्राप्त हो जाएगी।  Mobile Banking की है प्रणाली ग्रामीण क्षेत्रों में काफी लोकप्रिय है, जहां ज्यादातर लोगों के पास स्मार्टफोन और इंटरनेट की पहुंच नहीं है। 

Mobile Banking विशेषताएं और लाभ

भारत में जैसे-जैसे इंटरनेट सेवाएं सस्ती हुई है मोबाइल बैंकिंग भी लोकप्रिय हुई है। Mobile Banking की निम्नलिखित विशेषताएं हैं।

  • Mobile Banking के सभी बैंकिंग सेवाएं आपकी अंगुलियों पर है।
  • अकाउंट बैलेंस, फंड ट्रांसफर, बिल पेमेंट, अकाउंट स्टेटमेंट आदि की सुविधाएं ऑनलाइन कुछ Clicks में प्राप्त हो जाती है।
  • नगद निकासी के अलावा एटीएम पर बार-बार लंबी-लंबी लाइनों में लगने की आवश्यकता नहीं है।
  • मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से कभी भी कहीं से भी फंड ट्रांसफर कर सकते हैं। अर्थात समय की कोई पाबंदी नहीं है।  
  • Mobile Banking का उपयोग कर दिन या रात किसी भी समय अपना अकाउंट स्टेटमेंट प्राप्त कर सकते हैं।
  • मोबाइल बैंकिंग का लाभ बिना इंटरनेट के SMS और USSD कोड से प्राप्त किया जा सकता है।
  • मोबाइल ऐप डाउनलोड और उपयोग कर सकते हैं, जबकि अन्य Mobile Banking SMS और USSD सेवाओं का उपयोग कर सकते हैं।
  • मोबाइल बैंकिंग में आपका बैंक अकाउंट और आपका व्यक्तिगत जानकारी पूरी तरह से सुरक्षित फोटो है। 
  • बैंकिंग सेवाओं का लाभ लॉगइन क्रैडेंशियल्स के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं।
  • बैंकिंग प्रणाली में लॉगिन क्रेडेंसियल के साथ साथ द्वि-स्तरीय सत्यापन के लिए वन टाइम पासवर्ड का भी प्रयोग किया जाता है।
  • अधिकांश बैंक द्वि-चरणीय सुरक्षा प्रणाली को अपनाते हुए आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ही वन–टाइम पासवर्ड (OTP) भेजते हैं जिनका प्रयोग कर आप संबंधित सेवा का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

निष्कर्ष

इंटरनेट प्रोवाइडर करने वाली कंपनियों ने इंटरनेट पैकेज को सस्ता कर दिया है जिसकी वजह से मोबाइल इंटरनेट का प्रयोग दिनों दिन बढ़ता जा रहा है। मोबाइल इंटरनेट के प्रयोग के साथ साथ Mobile Banking का प्रयोग भी पड़ रहा है। अधिकांश इस समय रहते हैं मोबाइल बैंकिंग सेवा प्राप्त करना को जन्म देता है। जबकि यह सत्य नहीं है क्योंकि अधिकांश बैंकों द्वारा मोबाइल बैंकिंग की सेवाएं मुफ्त प्रदान की जाती है।

बैंकों द्वारा Mobile Banking सेवा के लिए रजिस्टर करने के लिए किसी प्रकार की अतिरिक्त शुल्क नहीं ली जाती है। एटीएम पर आपको एकता लिमिट में ट्रांजैक्शन की सुविधा मिलती है जबकि Mobile Banking के माध्यम से आप मुफ्त अनलिमिटेड ट्रांजैक्शन एवं सेवाएं प्राप्त कर सकते हैं। 

मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से आप अपने अकाउंट स्टेटमेंट जान सकते हैं, अपने बिलों की शेष राशि के भुगतान की जानकारी ऑनलाइन प्राप्त कर सकते हैं। जब से जीएसटी लागू हुई है उसके बाद केवल आपको फंड ट्रांसफर करने पर ही मामूली शुल्क देना पड़ता है। इसके अलावा सभी प्रकार की सेवाएं बैंक द्वारा मुफ्त प्रदान की जाती है।

यह भी अवश्य पढ़ें- इंटरनेट बैंकिंग क्या है और यह कैसे काम करता है?

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here