इंटरनेट बैंकिंग:  विशेषताएं, लाभ, लॉगइन ,रजिस्ट्रेशन,फंड ट्रांसफर , बिल पेमेंट 

Internet banking – डिजिटल इंडिया के इस युग में बैंकिंग क्षेत्र में नेट बैंकिंग/इंटरनेट बैंकिंग का प्रचलन तेजी से बढ़ रहा है। बैंकिंग क्षेत्र में प्रतिदिन डिजिटल साधन नए मानक स्थापित कर रहे हैं। सन 2016 में नोटबंदी के बाद लगभग सभी सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र के बैंकों ने उपभोक्ताओं को नेट बैंकिंग सेवा प्रदान करने के लिए डेडीकेटेड पोर्टल (वेब साइट्स) की स्थापना की है।  बैंकों द्वारा शुरू किए गए डेडीकेटेड पोर्टल उपभोक्ताओं को ना केवल Internet Banking की सुविधा देते हैं बल्कि बैंक की अन्य सेवाओं जैसे फिक्स्ड डिपॉजिट, टैक्स भुगतान आदि को भी प्राप्त किया जा सकता है।

इस लेख में इंटरनेट बैंकिंग से जुड़े समस्त पहलुओं के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान की गई है जाएगी। अगर आप Internet Banking से जुड़ी सभी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें।

List of Contents

इंटरनेट बैंकिंग क्या होती है?/What is Net Banking?

Internet Banking एक प्रकार की इलेक्ट्रॉनिक सर्विस है, जिसके माध्यम से बैंकों द्वारा अकाउंट धारकों को वित्तीय एवं गैर वित्तीय सेवाओं को प्राप्त करने की पहुंच प्रदान की जाती है। यह एक प्रकार का इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम, जिसे Internet Banking के नाम से भी जाना जाता है।  

आपने कुछ साल पहले देखा होगा कि बैंक की छोटी से छोटी सेवा को प्राप्त करने के लिए बैंक ब्रांच में जाना होता था। जबकि Internet Banking की सुविधा हो जाने के बाद लगभग सभी प्रकार की बैंकिंग सेवाओं एवं प्रोडक्ट्स को ऑनलाइन प्राप्त किया जा सकता है। आजकल जीवन में ऑनलाइन फंड ट्रांसफर, डिमांड ड्राफ्ट के लिए रिक्वेस्ट करना आदि Internet Banking सेवाएं उपभोक्ताओं के लिए जरूरी हो गई है। इंटरनेट के माध्यम से बैंकिंग सेवाओं को प्राप्त करना ना केवल आसान हुआ है बल्कि बैंकिंग सेवाओं को प्राप्त करने का यह एक सुरक्षित माध्यम रही है।

Internet Banking के माध्यम से बैंकों द्वारा दी जाने वाली प्रमुख सेवाएं 

भारत में लगभग सभी बैंकों द्वारा Internet Banking पोर्टल के माध्यम से निम्नलिखित सार्वभौमिक सेवाएं प्रदान की जाती है। 

  • फंड को एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर करना।
  • ऑनलाइन बैंक अकाउंट बैलेंस चेक करने की सुविधा।
  • एनईएफटी, आरटीजीएस, तथा आइएमपीएस की सुविधा।
  • कुछ बैंकों द्वारा ऑनलाइन बैंक अकाउंट ओपन करने की सुविधा भी प्रदान की जाती है
  • डेबिट कार्ड से संबंधित सेवाएं प्राप्त करना।
  • क्रेडिट कार्ड से संबंधित सेवाएं प्राप्त करना।
  • चेक बुक के लिए रिक्वेस्ट।
  • ऑनलाइन यूटिलिटी बिलों का भुगतान।

इन सेवाओं के अलावा बैंकों के Internet Banking पोर्टल द्वारा अन्य वित्तीय एवं गैर वित्तीय सेवाएं भी प्रदान की जाती है।

Internet Banking काम कैसे करता है?

किसी भी बैंक की Internet Banking सेवाओं का लाभ प्राप्त करने के लिए अकाउंट धारक को बैंक के पास इंटरनेट बैंकिंग सेवाओं के लिए रजिस्टर करना आवश्यक है। 

अगर आपका अकाउंट किसी भी वित्तीय संस्था अथवा बैंक में है तो आप Internet Banking सेवाओं के लिए अपने आप को रजिस्टर करवा सकते हैं। Internet Banking प्रणाली का लाभ प्राप्त करने के लिए आपके पास कंप्यूटर लैपटॉप अथवा मोबाइल फोन एक अच्छी इंटरनेट कनेक्टिविटी के साथ होना आवश्यक है। 

जब आप बैंक के पास नेट बैंकिंग के लिए अपने आप को रजिस्टर करते हैं तो बैंक के द्वारा आपको यूज़र आईडी तथा पासवर्ड प्रदान किया जाता है। बैंक द्वारा उपलब्ध कराएगी user-id तथा पासवर्ड की मदद से Internet Banking के माध्यम से बैंक अथवा वित्तीय संस्था की पोर्टल पर आप अपने अकाउंट में लॉगिन कर सकते हैं। 

Internet Banking की विशेषताएं 

नेट बैंकिंग अर्थात Internet Banking की निम्नलिखित मुख्य विशेषताएं हैं।

  • इंटरनेट बैंकिंग एक आसान एवं सुरक्षित बैंकिंग प्रणाली है।
  • नेट बैंकिंग प्रणाली पासवर्ड प्रोटेक्टेड बैंकिंग सर्विस प्रदान करती है।
  • Internet Banking के माध्यम से बैंक की फाइनेंसियल और non-financial सेवाओं और उत्पादों को आसानी से प्राप्त किया जा सकता है।
  • नेट बैंकिंग के माध्यम से 24 * 7 किसी भी स्थान से बैंक अकाउंट में एक्सेस किया जा सकता है।
  • इसके माध्यम से आप अपने बैंक अकाउंट को मैनेज कर सकते हैं।
  • बैंक बैलेंस, लास्ट ट्रांजैक्शन, तथा बैंक स्टेटमेंट आदि सेवाएं आसानी से घर बैठे प्राप्त कर सकते हैं।
  • Internet Banking के माध्यम से NEFT, RTGS, IMPS का प्रयोग कर किसी भी समय फंड ट्रांसफर कर सकते हैं।
  • उपयोगिता बिलों का भुगतान तेजी से किया जा सकता है।
  • Mortgage payments, loans, savings a/c आदि को ट्रैक कर सकते हैं।
  • उपयोगिता बिलों का भुगतान ऑटोमेटिक कर सकते हैं तथा ऑटोमेटिक पेमेंट को कैंसिल भी कर सकते हैं। 

यह भी पढे- एसबीआई मिस्डकॉल बैलेस जानकारी कैसे करे?

Internet Banking के लिए रजिस्टर कैसे करें?

अगर किसी व्यक्ति को नेट बैंकिंग के आधारभूत नियमों के बारे में जानकारी नहीं है तो उसे सबसे पहले नेट बैंकिंग का इस्तेमाल करने के लिए Internet Banking अकाउंट ओपन करना आवश्यक है। अर्थात इंटरनेट बैंकिंग के लिए अपने आप को रजिस्टर करना आवश्यक है। फिलहाल अधिकांश बैंकों द्वारा नया बैंक अकाउंट खोलते समय ही उपभोक्ता का इंटरनेट बैंकिंग अकाउंट भी एक्टिवेट कर दिया जाता है। 

अगर आपके बैंक अकाउंट में Internet Banking सुविधा पहले से एक्टिवेट नहीं है, तो आपको अपनी होम बैंक ब्रांच में इंटरनेट बैंकिंग एप्लीकेशन फॉर्म सबमिट करना आवश्यक है। इंटरनेट बैंकिंग के लिए आप ऑनलाइन अथवा ऑफलाइन दोनों माध्यम से आप रजिस्टर कर सकते हैं।

ऑफलाइन माध्यम से Internet Banking के लिए रजिस्टर करने की प्रक्रिया

अगर आप किसी बैंक की Internet Banking सेवा के लिए रजिस्टर करना चाहते हैं, तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

स्टेप 1: – सर्वप्रथम जिस बैंक ब्रांच में आपका अकाउंट नंबर है उस बैंक प्रांत में जाएं और बैंक ग्राहक प्रतिनिधि से संपर्क करें।

स्टेप 2: – ग्राहक प्रतिनिधि से इंटरनेट बैंकिंग एप्लीकेशन फॉर्म प्राप्त करें। Internet Banking एप्लीकेशन में मांगी गई सभी जानकारियों को निर्धारित स्थान पर दर्ज करें।

स्टेप 3: – इंटरनेट बैंकिंग एप्लीकेशन फॉर्म को आप संबंधित बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर भी डाउनलोड कर सकते हैं।

स्टेप 4: – Internet Banking एप्लीकेशन फॉर्म को आवश्यक दस्तावेजों जैसे बैंक अकाउंट पासबुक तथा आधार कार्ड के साथ बैंक ग्राहक प्रतिनिधि के पास जमा कराएं।

स्टेप 5: -संबंधित बैंक द्वारा आपके द्वारा उपलब्ध कराई गई सूचनाओं को वेरीफाई किया जाएगा। सूचनाएं वेरीफाई होने के बाद बैंक द्वारा आपको इंटरनेट बैंकिंग सेवा के लिए कस्टमर आईडी और पासवर्ड रजिस्टर्ड डाक द्वारा भेजे जाएंगे।

स्टेप 6: – कस्टमर आईडी तथा पासवर्ड को आप बैंक शाखा में जाकर भी प्राप्त कर सकते हैं।

स्टेप 7: – Internet Banking यूजर आईडी एवं पासवर्ड प्राप्त होने के बाद आप इनका प्रयोग कर Internet Banking के लिए अपने अकाउंट में लॉगिन कर सकते हैं।

स्टेप 8: – इंटरनेट बैंकिंग का प्रयोग करते समय विशेष ध्यान रखें कि समय-समय पर अपना पासवर्ड बदलते रहे। 

नोट: – पहली बार Internet Banking का इस्तेमाल करने वाले उपभोक्ता ध्यान रखें कि पहली बार लोगिन करने के बाद बैंक द्वारा उपलब्ध कराए गए पासवर्ड को अवश्य बदल ले क्योंकि यह पासवर्ड बैंक कर्मचारी के द्वारा कंप्रोमाइज किया जा सकता है। 

ऑनलाइन माध्यम से नेट बैंकिंग के लिए रजिस्टर करने की प्रक्रिया

ग्राहक ऑफलाइन के साथ-साथ बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन भी Internet Banking के लिए रजिस्टर कर सकता है। लेकिन ध्यान रहे वर्तमान में सभी बैंकों द्वारा ऑनलाइन माध्यम से Internet Banking अकाउंट एक्टिवेट करने की सेवा प्रदान नहीं की जा रही है। अगर आपके बैंक द्वारा ऑनलाइन इंटरनेट बैंकिंग के लिए रजिस्टर करने की सुविधा प्रदान की गई है तो आप ऑनलाइन Internet Banking के लिए रजिस्टर करने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें। 

Step 1: सर्वप्रथम अपने बैंक की आधिकारिक Internet Banking वेबसाइट पर विजिट करें। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। 

Step 2: पर्सनल और रिटेल बैंकिंग विकल्प के अंतर्गत दिए गए लॉगिन का विकल्प दिखाई देगा।  ‘Login’ के बटन पर क्लिक करें। Step 3: एक नया पेज खुल जाएगा। नहीं पेज पर ‘New User? Register Here’  का विकल्प दिखाई देगा।  इस विकल्प के लिंक पर क्लिक करें।

Step 4:   अगर आपको बैंक द्वारा पहले ही कस्टमर आईडी और पासवर्ड प्राप्त हो गया है तो बैंक से प्राप्त हुए कस्टमर आईडी और पासवर्ड को दिए गए निर्धारित स्थान पर भरें। Proceed  की बटन पर क्लिक करें। अन्यथा ‘Next’ के बटन पर क्लिक करें। 

Step 5:  आपकी स्क्रीन पर ‘Self Registration Form’ खुल जाएगा। रजिस्ट्रेशन फॉर्म में मांगी गई सूचनाएं जैसे account number, registered mobile number, email address, branch code, CIF number, debit card details आदि को भरें और ‘Submit’ के बटन पर क्लिक करें।

Step 6: आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी प्राप्त होगा। अपने रजिस्ट्रेशन को प्रमाणित करने के लिए one-time password को दिए गए निर्धारित कॉलम में भरें और वेरीफाई करें। 

Step 7: ओटीपी वेरीफाई होते ही स्क्रीन पर आपका temporary customer ID and password डिस्प्ले हो जाएगा।

Step 8: लॉगइन सेक्शन में वापस जाएं और टेंपरेरी लॉगइन क्रेडेंशियल की मदद से अपने अकाउंट में लॉगिन करें। प्रथम बार सफलतापूर्वक लोगिन करने के उपरांत सुरक्षित Internet Banking सेवा प्राप्त करने के लिए अपने पासवर्ड को अवश्य बदल ले। 

Note: किसी भी प्रकार की धोखाधड़ी से बचते हुए सुरक्षित Internet Banking अकाउंट का इस्तेमाल करने के लिए अपने ट्रांजैक्शन पासवर्ड को समय-समय पर बदलते रहना चाहिए। 

नेट बेंकिंग के लिए अकाउंट में लॉगइन कैसे करें?

जब आपका Internet Banking के लिए सफलतापूर्वक ऑफलाइन अथवा ऑनलाइन माध्यम से रजिस्ट्रेशन हो जाए और आपको इंटरनेट बैंकिंग यूजर आईडी और पासवर्ड प्राप्त हो जाए, तो Internet Banking सिस्टम में लॉग इन करने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

Step 1: सर्वप्रथम अपने बैंक की आधिकारिक नेट बैंकिंग वेबसाइट पर जाएं। Internet Banking वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।

Step 2: होम पेज पर लॉगइन सेक्शन दिखाई देगा। अगर आप पर्सनल और रिटेल यूजर है तो पर्सनल लॉगइन का चुनाव करें।

Step 3: अगर आप कॉरपोरेटर यूजर है तो कॉरपोरेट लॉगइन के विकल्प का चुनाव करें। 

Step 4: लॉगइन पेज खुल जाएगा। लॉगइन सेक्शन में अपना यूजर आईडी एवं पासवर्ड को दिए गए निर्धारित कॉलम में भरें। 

Step 5: दिए गए कैप्चा कोड को भी निर्धारित फील्ड में भरें और “Login” (लॉगइन) के बटन पर क्लिक करें। 

Step 6: “Login” के बटन पर क्लिक करते ही आपके अकाउंट का Internet Banking डैशबोर्ड नई स्क्रीन पर प्रदर्शित हो जाएगा।

Step 7: डैशबोर्ड से आप फंड ट्रांसफर यूटिलिटी बिल पेमेंट बैलेंस चेक चेक बुक रिक्वेस्ट डेबिट एवं क्रेडिट कार्ड से संबंधित रिक्वेस्ट बैंक स्टेटमेंट आदि सेवाओं को ऑनलाइन माध्यम से घर बैठे प्राप्त कर सकते हैं।

यह भी पढे- ग्रीन पिन क्या है, यह कैसे जनरेट होता है?

नेट बैंकिंग पासवर्ड रिसेट कैसे करें?

Internet Banking सेवाओं को प्राप्त करने के लिए आपके पास यूज़र आईडी एवं पासवर्ड होना आवश्यक है। लेकिन देखा गया है काफी दिनों तक इस्तेमाल नहीं करने पर लोग अपना इंटरनेट बैंकिंग पासवर्ड भूल जाते हैं। लगभग सभी बैंकों ने Internet Banking पासवर्ड फिर से रिसेट करने की ऑनलाइन सुविधा प्रदान की है। पासवर्ड रीसेट करने की प्रक्रिया लगभग सभी बैंकों की एक समान है। किसी बैंक विशेष के कुछ स्टेप्स अलग हो सकते हैं।

अगर आप भी अपना इंटरनेट पासवर्ड भूल गए हैं, तो Internet Banking पासवर्ड को फिर से प्राप्त करने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें। 

Step 1: सर्वप्रथम संबंधित बैंक की आधिकारिक Internet Banking पोर्टल पर विजिट करें। बैंकिंग पोर्टल का होम पेज खुल जाएगा।

Step 2: अपने अकाउंट के मुताबिक पर्सनल एवं कॉरपोरेट लॉगइन पेज पर जाएं।

Step 3: लॉगइन पेज पर लॉगइन बटन के नीचे ‘Forgot Password’ का विकल्प दिखाई देगा।  

Step 4: ‘Forgot Password’ के लिंक पर क्लिक करें। एक नया फार्म खुल जाएगा। नए फार्म में मांगी गई सूचनाएं जैसे username, bank account number, date of birth, mobile number आदि को दिए गए निर्धारित स्थान पर भरें।

Step 5: ‘Submit’ के बटन पर क्लिक करें। ‘Submit’ के बटन पर क्लिक करते ही बैंक अकाउंट से रजिस्टर्ड आपके मोबाइल नंबर पर एक वन टाइम पासवर्ड प्राप्त होगा। 

Step 6: मोबाइल नंबर पर प्राप्त हुए ओटीपी को दिए गए निर्धारित कॉलम में भरें और वेरीफाई करें। वेरीफाई करते ही एक नया विंडो खुल जाएगा।

Step 7: अपना नया पासवर्ड निर्धारित कॉलम में भरें और उसे कंफर्म करने के लिए दुबारा से दिए गए कालम में भरें। नया पासवर्ड कंफर्म करने के बाद सबमिट करें।

Step 8: सबमिट के बटन पर क्लिक करते ही आपका पासवर्ड रीसेट हो जाएगा जिसकी सूचना आपको पंजीकृत मोबाइल नंबर अथवा ईमेल आईडी पर भी प्राप्त हो जाएगी।

Step 9: अपने यूजर आईडी अथवा नए पासवर्ड का इस्तेमाल कर आप नेट बैंकिंग के लिए लॉगइन कर Internet Banking सेवाओं का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

Internet Banking से फंड ट्रांसफर करने की कौन-कौन सी सेवाएं उपलब्ध है?

Internet Banking सेवा के माध्यम से लगभग सभी बैंकों द्वारा फंड ट्रांसफर करने एनईएफटी, आरटीजीएस तथा आइएमपीएस प्रणालियों का इस्तेमाल किया जाता है।  आइए ऑनलाइन फंड ट्रांसफर के इन तीनों मेथड्स को अलग अलग समझते हैं

NEFT के माध्यम से 

NEFT का पूरा नाम National Electronic Fund Transfer होता है। बैंकिंग प्रणाली में ऑनलाइन माध्यम से एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में फंड ट्रांसफर करने के लिए NEFT payment methods का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है।  यह सेवा बैंकों द्वारा विशेष टाइम रिस्ट्रिक्शंस के साथ 24 * 7 उपलब्ध है। एनईएफटी के माध्यम से सफलतापूर्वक फंड ट्रांसफर होने में लगभग 30 मिनट का समय लगता है। कभी-कभी तो ऐसा होता है कि एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में फंड ट्रांसफर करने में लगभग 2 से 3 घंटे का समय भी लग जाता है। 

RTGS के माध्यम से

RTGS का पूरा नाम Real-Time Gross Settlement होता है, आरटीजीएस प्रणाली एक विशेष आदेश के आधार पर व्यक्तिगत रूप से धन के निरंतर निपटान को संदर्भित करता है। अर्थात आरटीजीएस प्रणाली यह सुनिश्चित करती है कि  फंड ट्रांसफर करने के बाद लाभार्थी के खाते में धनराशि तुरंत जमा हो जाए। आरटीजीएस के माध्यम से लेनदेन के हस्तांतरण को अपरिवर्तनीय बनाने के लिए आरबीआई इसकी निगरानी करता है। आरटीजीएस की सेवा भी एनआईएफटी की तरह है बैंक द्वारा टाइम डिस्ट्रिक्ट सेवा है, लेकिन फिर भी यह सेवा 24 * 7 उपलब्ध रहती है। आरटीजीएस के माध्यम से कम से कम ₹200000 का फंड ट्रांसफर करना आवश्यक है।

IMPS के माध्यम से 

IMPS का पूरा अर्थ Immediate Payment System होता है। आइएमपीएस एक प्रकार से त्वरित भुगतान का माध्यम है जो रियल टाइम फंड ट्रांसफर करने में deals करता है। 

पूरे भारत में रियल टाइम मोबाइल इंटरनेट अथवा एटीएम के माध्यम से तुरंत फंड ट्रांसफर करने के लिए सबसे ज्यादा IMPS पेमेंट मेथड का प्रयोग किया जाता है। किस प्रणाली का उपयोग कर कोई भी व्यक्ति लाभार्थी के मोबाइल नंबर की सहायता से ही उसके अकाउंट में ट्रांसफर कर सकता है। IMPS payment method में MMID का इस्तेमाल किया जाता है जो संबंधित बैंक द्वारा प्रत्येक खाताधारक को प्रत्येक अकाउंट पर अकाउंट ओपन करते समय प्रदान की जाती है।

यह भी पढे- एसबीआई स्टेटेमेंट मोबाइल पर कैसे प्राप्त करे?

Internet Banking के माध्यम से फंड ट्रांसफर करने की प्रक्रिया

नेट बैंकिंग के माध्यम से फंड ट्रांसफर करने की प्रक्रिया लगभग सभी बैंकों की एक समान है (किसी बैंक विशेष में कुछ स्टेप्स अलग हो सकती है)। अगर आप Internet Banking का उपयोग करें एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक अकाउंट में फंड ट्रांसफर करना चाहते हैं, तो स्टेप बाय स्टेप गाइड में नीचे दिए गए स्टेप को फॉलो करें।

Step 1: सर्वप्रथम संबंधित बैंक अकाउंट की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। बैंक की आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।  customer ID and password to log-in to your bank’s official net-banking portal

Step 2: होम पेज से अपने अकाउंट के आधार पर रिटेल अथवा कॉरपोरेट बैंकिंग लॉगिन पेज पर जाएं। 

Step 3: Internet Banking कस्टमर आईडी और पासवर्ड का इस्तेमाल करते हुए Internet Banking पोर्टल पर लॉगिन करें। 

Step 4: Internet Banking अकाउंट डैशबोर्ड पर नेवीगेशन मेनू की मदद से ‘Transfer Funds’ के विकल्प पर जाएं। 

Step 5: ‘Transfer Funds’ के अंतर्गत भुगतान की दिए गए विभिन्न तरीकों जैसे  NEFT, RTGS or IMPS मैं से अपनी सुविधानुसार किसी एक का चयन करें।

Step 6: अगर आपने फंड ट्रांसफर का माध्यम NEFT चुना है तो यह सुनिश्चित अवश्य कर लें कि लाभार्थी का बैंक एनईएफटी सुविधा से युक्त है अथवा नहीं।

Step 7: अपनी लिस्ट से बेनेफिशरी का चुनाव करें। अगर बेनिफिसरी आप की लिस्ट में पहले से जुड़ा हुआ नहीं है तो  ‘Add Beneficiary’ के टाइप का प्रयोग करते हुए सबसे पहले बेनेफिशरी को अपने अकाउंट से जोड़े। 

Step 8: लाभार्थी को जोड़ने के लिए लाभार्थी का नाम, बैंक अकाउंट नंबर, बैंक आईएफएससी कोड, बैंक शाखा का नाम आदि को दिए गए निर्धारित फील्ड भरें। 

Step 9: बेनेफिशरी/लाभार्थी को अपनी लिस्ट में जोड़ने के लिए ‘Submit & Save’ के बटन पर क्लिक करें।  

Step 10: इसके बाद जो अमाउंट आफ ट्रांसफर करना चाहते हैं उसको दिए गए निर्धारित फील्ड में भरें और प्रोसीड करें।

Step 11: फंड ट्रांसफर ऑथेंटिकेशन के लिए आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर वन टाइम पासवर्ड प्राप्त होगा जिसे दिए गए निर्धारित कॉलम में भरें और वेरीफाई करें।

Step 12: ‘Confirm & Send’ की बटन पर क्लिक करें। ‘Confirm & Send’ की बटन पर क्लिक करते हैं आपके बैंक अकाउंट से ट्रांसफर राशि कट जाएगी और लाभार्थी के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर हो जाएगी। 

Step 13: संबंधित बैंक द्वारा फंड ट्रांसफर से संबंधित  confirmation आपको message/mail की माध्यम से प्राप्त हो जाएगी।

नेट बैंकिंग के माध्यम से क्रेडिट कार्ड बिल पेमेंट की प्रक्रिया

नेट बैंकिंग को क्रेडिट कार्ड बिल पेमेंट का सबसे आसान एवं सुरक्षित तरीका माना जाता है। आमतौर पर Internet Banking के माध्यम से किसी भी प्रकार की सेवा अथवा ट्रांजैक्शन पर किसी प्रकार का अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जाता है।  Internet Banking प्रणाली में ट्रांजैक्शंस को सिक्योर बनाने के लिए कुछ अतिरिक्त फीचर्स को जोड़ा गया है। अर्थात फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन में इंक्रिप्टेड डाटा का प्रयोग किया जाता है। 

लगभग सभी बैंकों द्वारा नेट बैंकिंग के माध्यम से क्रेडिट कार्ड बिल पेमेंट करने की प्रक्रिया एक समान ही है (कुछ बैंकों की प्रक्रिया मैं कुछ स्टेप्स कम या ज्यादा हो सकते हैं)। क्रेडिट कार्ड पेमेंट Internet Banking के माध्यम से करने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

Step 1: संबंधित बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं और लॉगइन सेक्शन में नेट बैंकिंग कस्टमर आईडी और पासवर्ड का प्रयोग कर लॉगिन करें। 

Step 2: नेविगेशन मेनू की मदद से बिल पेमेंट सेक्शन के अंतर्गत ‘Pay your Credit Card bill’ के विकल्प पर क्लिक करें।  एक नया विंडो खुल जाएगा।

Step 3: नए पेज में अपने क्रेडिट कार्ड का विवरण जैसे Credit Card Number, Email Address, payment amount को दिए गए निर्धारित फील्ड में भरें और सबमिट करें। 

Step 4: सबमिट के बटन पर क्लिक करते ही आपको पेमेंट गेटवे पर रीडायरेक्ट कर दिया जाएगा।  भुगतान की विभिन्न माध्यमों में से ‘Net Banking’ के विकल्प का चुनाव करें।

Step 5: इसके बाद उस बैंक अकाउंट का चयन करें जिससे आप क्रेडिट कार्ड पेमेंट करना चाहते हैं। आपको आपके बैंक पेमेंट इंटरफ़ेस पर रीडायरेक्ट कर दिया जाएगा।

Step 6: अपना ट्रांजैक्शन पासवर्ड दिए गए निर्धारित कॉलम में भरें। ट्रांजैक्शन वेरीफाई करने के लिए आपके मोबाइल नंबर पर वन टाइम पासवर्ड प्राप्त होगा।

Step 7: भुगतान के लिए अंतिम स्टेट के तौर पर ‘Confirm’ के बटन पर क्लिक करें। टाटा से आपके बैंक अकाउंट से डेबिट हो जाएगी। 

Step 8: सफलतापूर्वक ट्रांजैक्शन हो जाने पर आपकी रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर अथवा ईमेल आईडी पर बैंक द्वारा कंफर्मेशन मैसेज भेजा जाएगा। 

नोट – Internet Banking के माध्यम से भुगतान करते समय विशेष ध्यान दें की आप जिस बैंक की वेबसाइट पर पेमेंट कर रहे हैं, तो उसके URL में  ‘https://’ अवश्य होना चाहिए। ‘https://’ सिक्योर वेबसाइट को प्रदर्शित करता है।

नेट बैंकिंग सेवा देने वाले प्रमुख बैंक एवं संस्थाएं

लगभग सभी बैंकों और वित्तीय संस्थाओं द्वारा अपने ग्राहकों को Internet Banking की ऑनलाइन सुविधा देने के लिए डेडिकेटेड वेब पोर्टल की स्थापना की है। निम्नलिखित प्रमुख सरकारी एवं गैर सरकारी बैंकों द्वारा उपभोक्ताओं को Internet Banking वेबसाइट के माध्यम से ऑनलाइन सेवा उपलब्ध करवा रहे हैं।

  • एचडीएफसी नेटबैंकिंग
  • एसबीआई नेट बैंकिंग
  • केनरा बैंक नेट बैंकिंग
  • बैंक ऑफ बड़ौदा नेट बैंकिंग
  • इंडियन बैंक नेट बैंकिंग
  • कॉर्पोरेशन बैंक नेट बैंकिंग
  • एक्सिस बैंक नेट बैंकिंग
  • बैंक ऑफ इंडिया नेट बैंकिंग
  • स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक नेट बैंकिंग
  • आंध्रा बैंक नेट बैंकिंग
  • सिटी बैंक नेट बैंकिंग
  • आईडीबीआई बैंक नेट बैंकिंग
  • यूको बैंक नेट बैंकिंग
  • विजया बैंक नेट बैंकिंग
  • यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया नेट बैंकिंग
  • बंधन बैंक नेट बैंकिंग
  • बैंक ऑफ महाराष्ट्र नेट बैंकिंग
  • कर्नाटक बैंक नेट बैंकिंग
  • यूनियन बैंक नेट बैंकिंग
  • इलाहाबाद बैंक नेट बैंकिंग
  • तमिलनाडु मर्केंटाइल बैंक नेट बैंकिंग

यह भी पढे- भारत में छात्रो को तुरन्त लोन प्रदान करने वाली पाँच प्रमुख एप्लीकेशन।

नेट बैंकिंग सेवाओं के लाभ

वर्तमान में दिन प्रतिदिन Internet Banking का प्रयोग तेजी से बढ़ रहा है। ग्राहक नेट बैंकिंग के निम्नलिखित लाभ प्राप्त कर सकता हैं।

24×7 Net-banking : 

बैंकों द्वारा अपने ग्राहकों को नेट बैंकिंग के माध्यम से 24 * 7 नेट बैंकिंग सुविधा प्रदान करती है लेकिन बैंकों द्वारा बैंकिंग सेवाओं की उपलब्धता समय-प्रतिबंधित है।   Internet Banking के माध्यम से कोई भी व्यक्ति कभी भी किसी भी स्थान से बैंकिंग सेवा का लाभ प्राप्त कर सकता है। नेट बैंकिंग सेवा के प्रचलन में आने से कस्टमर को छोटी-छोटी सेवाओं को प्राप्त करने के लिए बैंक शाखा में विजिट करने की आवश्यकता नहीं है।  Internet Banking के माध्यम से उपभोक्ता कुछ ही क्लिक्स में बैंक से संबंधित सभी सेवाओं को घर पर प्राप्त कर सकते हैं।

वित्तीय लेनदेन में आसानी 

नेट बैंकिंग के माध्यम से वित्तीय लेनदेन आसान हुआ है। अब ग्राहक Internet Banking के माध्यम से आसानी से कुछ ही क्लिक्स में fund transfer, bill payments, recharges आदि सेवाओं को प्राप्त कर सकता है।  यह सब बैंकिंग सेवाएं इंटरनेट में आसान कर दी हैं।

नेट बैंकिंग के माध्यम से लेनदेन की प्रक्रिया इतनी आसान हो गई है कि आप कुछ क्लिक्स में घर बैठे कभी भी उसे संपन्न कर सकते हैं।  

बैंक स्टेटमेंट और ट्रांजैक्शन हिस्ट्री को ऑर्गेनाइज करना

नेट बैंकिंग के बिगर बैंक अकाउंट के ट्रांजैक्शन को मैनेज कर पाना काफी मुश्किल है। प्रत्येक छोटे से छोटे ट्रांजैक्शन की जानकारी के लिए पासबुक लेकर बैंक शाखा जाना होता था। Internet Banking के माध्यम से खाताधारक अपने बैंक से होने वाली प्रत्येक ट्रांजैक्शन पर नजर रख सकता है तथा होने वाली धोखाधड़ी के बारे में संबंधित बैंक को समय रहते सूचना दे सकता है।  अब नेट में के माध्यम से आप आसानी से  transactions and outstanding balance पर नजर रख सकते हैं। ट्रांजैक्शंस और फंड ट्रांसफर को ‘Transaction History’ section से के माध्यम से payee’s name, bank account number, amount paid, date & time of payment, remarks आदि की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। 

सुरक्षित बैंकिंग प्रणाली: 

वित्तीय लेनदेन के साथ-साथ आपका नेट बैंकिंग अकाउंट यूजर आईडी और पासवर्ड से सुरक्षित है। कुछ बैंकों कि नेट बैंकिंग पोर्टल सिक्योर नेट बैंकिंग के लिए द्वी-स्तरीय सुरक्षा प्रणाली का प्रयोग करते हैं। नेट बैंकिंग के माध्यम से की गई ट्रांजैक्शन इन क्रिकेट फॉर्म में होती है। 

अन्य सेवाओं तक पहुंच

Internet Banking के माध्यम से फंड ट्रांसफर के अलावा ग्राहक अन्य गैर वित्तीय सेवाएं जैसे बैलेंस चेक करना, डिमांड ड्राफ्ट के लिए रिक्वेस्ट करना, चेक बुक जारी करने की रिक्वेस्ट, पर्सनल लोन अप्लाई करना, टैक्स पेमेंट करना आदि भी प्राप्त की जा सकती हैं। 

नेट बैंकिंग के माध्यम से FD/RD जमा, इन्वेस्टमेंट, मॉर्टगेज चेक, ट्रेडिंग अकाउंट मैनेज करने सहित अन्य सेवाओं का भी लाभ प्राप्त किया जा सकता है।  

Net banking related FAQs

Q. 1. नेट बैंकिंग सेवा के लिए लॉगिन कैसे कर सकते हैं?

उत्तर – अगर आपके पास किसी बैंक अथवा वित्तीय संस्था का अकाउंट है तो आप संबंधित संस्था की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। सबसे पहले नेट बैंकिंग के लिए कस्टमर आईडी और पासवर्ड प्राप्त करने के लिए रजिस्टर करें।  नेट बैंकिंग एप्लीकेशन फॉर्म को भरकर संबंधित बैंक शाखा के माध्यम से भी नेट बैंकिंग के लिए रजिस्टर कर सकते हैं। यूजर आईडी और पासवर्ड प्राप्त होने के बाद आधिकारिक वेबसाइट के लॉगइन पेज पर जाकर यूज़र आईडी में पासवर्ड का प्रयोग करते हुए लॉगइन कर सकते हैं।  

Q. 2. क्या कोई व्यक्ति अपना नेट बैंकिंग पासवर्ड बदल सकता है?

उत्तर- हां, आप जब चाहे अपना नेट बैंकिंग पासवर्ड ऑनलाइन माध्यम से बदल सकते हैं। वैसे भी सुरक्षित नेट बैंकिंग के लिए आपको अपना पासवर्ड हर महीने बदलते रहना चाहिए। अगर आप Internet Banking का पहली बार प्रयोग कर रहे हैं तो यूजर आईडी और पासवर्ड से लॉगिन करने के उपरांत तुरंत अपना पासवर्ड अवश्य बदले।

Q. 3. नेट बैंकिंग का उपयोग करते समय किन बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए?

उत्तर – नेट बैंकिंग का प्रयोग करते समय निम्नलिखित बातों का विशेष ध्यान रखें।
पब्लिक कनेक्टिविटी का इस्तेमाल ना करें।
अपने सिस्टम में हमेशा ऑथेंटिक एंटीवायरस सॉफ्टवेयर रखें।
अपने सिस्टम अथवा मोबाइल फोन का ऑपरेटिंग सिस्टम अपडेटेड रखें।
प्रथम बार Internet Banking का प्रयोग करते समय अपना पासवर्ड तुरंत बदलें।
सुरक्षित इंटरनेट बैंकिंग के उपयोग हेतु प्रत्येक महीने अपना पासवर्ड अवश्य बदलें।
पासवर्ड इतना कॉम्प्लिकेट रखें की सामान्य व्यक्ति पासवर्ड का अनुमान ना लगा सके।
Mailer के माध्यम से नेट बैंकिंग पोर्टल पर लॉगिन ना करें।
नेट बैंकिंग पोर्टल पर लॉगइन करने के लिए किसी सार्वजनिक कंप्यूटर का उपयोग ना करें।

Q. 4. नेट बैंकिंग यूजर आईडी का क्या महत्व है?

उत्तर- नेट बैंकिंग प्रणाली में यूजर आईडी आपके अकाउंट की आईडेंटिटी के तौर पर प्रयोग की जाती है। अधिकांश बैंकों द्वारा बैंक अकाउंट के लिए अप्लाई करते समय Internet Banking आईडी और पासवर्ड प्रदान किए जाते हैं। यूजर आईडी की बगैर आप अपने अकाउंट में लोग भी नहीं कर सकते हैं। 
बैंक अकाउंट खोलते समय बैंक में अगर आपको यूजर आईडी और पासवर्ड प्रदान नहीं किया है तो आपको नेट बैंकिंग एप्लीकेशन फॉर्म सबमिट कर अपना यूज़र आईडी और पासवर्ड ऑनलाइन अथवा ऑफलाइन माध्यम से अवश्य प्राप्त करना चाहिए।  

यह भी अवश्य पढ़ें :-  एक्सीस बैंक क्रेडिट कार्ड को बंद कैसे करे?

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here